healthy and fit

आसानी से सेहतमंद और फिट रहने का तरीका

स्वस्थ और चंगा रहने के कुछ आसान तरीके

दोस्तों, तो आजके ज़रूरी जानकारी मैं हम देखेंगे के आप कैसे सेहतमंद रह सकते हो, वो भी आसानी से. जी हन, इसमे हम ऐसे कुछ तरकीबेन बताएँगे जिससे आप बिल्कुल सेहतमंद रहोगे, अगर बहुत आलसी भी हुए तो भी. इसमे आपको कोई बहुत मुशक्कत करनेवाली व्यायाम करने के भी आवश्वक्ता नही होगी.

असल मैं हम लोग जो हर दिन करते हैं, हू सारे एक तरह का व्यायाम होते हैं. जैसे रोज़ अपनी दाँत सॉफ करना, खाना खाना, चलना-फिरना, सोना इत्यादि. और इनमे ही च्छूपे हुए हैं सेहतमंद रहने के सारे राज़. लेकिन अब से आप यह सारे काम जब भी करेंगे, बस थोड़ी सी ध्यान दीजिएगा.

सकारात्मक सोंच सेहत के लिए ज़रूरी

Stay Positive

सकारात्मक सोंच रखे और मज़ा कीजिए : अच्च्ची मानसिकता हर इंसान के ज़िंदगी मैं बहुत ज़रूरी हैं. उसके लिए आप को ऐसी किसी काम से जुड़ना होगा, जो आपको अच्च्छा लगे. यह सुनने मैं अच्च्छा लगता हैं, लेकिन ज़्यादातर लोग कर नही पाते हैं. क्यूंके हमारी ज़िंदगी मे जो देयता और कर्तव्या होते हैं, उसके चलते हम लोग ऐसा कर नही पाते हैं. इसलिए आप कुछ छीसों का ध्यान रकखे.

अपने आप के उपर बिसवास रखे. यह ज़रूरी हैं पॉज़िटिव रहने के लिए. कभी भी खुद को कमज़ोर मत समझिए. क्यूँ के आप जो भी अब हैं, अब तक जो सफ़र आप ज़िंदगी मैं तय किए है, हू क़ाबिले टॅरिफ हैं. खुदका तारीफ़ करना सीखिए, खुद से प्यार करना जानिए. आप अगर खुद से प्यार नही कर सकते, तो इस दुनिया मैं कोई आप से प्यार नही कर सकता. और जो खुद से प्यार नही कर सकता, वो दूसरे को कैसे प्यार करेगा.

आत्मविश्वास और आत्मनियंत्रण बनाये रक्खे

अपने आप को नियंत्रण मैं रखने का कॉसिश करना सीखे. सबसे अच्च्छा रहेगा अपने भाबनाओ को काबू मे रख पाना. हमारे सबके ज़िंदगी मैं परिशानि हैं, और जो भी होता हैं उसे हम तो काबू नही कर सकते, लेकिन खुद को काबू मैं रख के हम, बहुत कुछ काबू कर सकते हैं.

हम कुछ करने से पहले हमेशा यहीं सोंच के परेशन रहते हैं, के लोग क्या कहेंगे. उस ख़याल मैं हम खुद को भी भूल जाते हैं, खुद की महत्त्व हम खो देते हैं. ऐसा करके हम लोग सकारात्मक सोंच से काई मील डोर चले जाते हैं. तो, आज से ऐसा करना बाँध कर दीजिए. कोई भी आप को आप से ज़्यादा जान नही सकता, तो किसीकि भी वास्तविकता को खुद के उपन थोपने की कॉसिश मत करें. तो कोई अगर आप को कुछ भी समझे, आप खुद को भी उस तरह से मत समझिए.

खुद को किसीसे भी तुलना मत कीजिए. हो सकता हैं, आपकी ज़िंदगी उतना सरल और बेहतर नहीं हैं, जितना आपने आशा किया होगा. आप की ज़िंदगी आप के लिए यूनीक हैं, दूसरे किसी के लिए शायद नही. उस यूनीक ज़िंदगी को यूनीक तरह से जिए.

यह सारे सकारात्मक रवैया आपके दिल और दिमाग़ को अच्च्छा रखेगा. और स्वस्थ दिल और दिमाग़ के बिना शरीर स्वस्थ कैसे रह सकता हैं.

छोटी छोटी बदलाव

छोटी छोटी बदलाव आपक के ज़िंदगी को और बेहतर और स्वस्थ बना सकते हैं. जैसे अगर आप बेज़ार या दोस्तों के घर अपने बिके या किसी और यान से जाते हो, तो आप थोड़ी सी आदत बदल कर पैदल चले जाइए. कुछ डोर बस से सफ़र करने से अच्च्छा हैं के अपने पैरों का इस्तेमाल करें. कभी कबार लिफ्ट या एस्कलाटोर का इस्तेमाल ना करके अपने पैरों का इस्तेमाल करें.

जी भर के साँस ले

सब लोग जानते हैं के हमारे पास दो-दो फेफड़ा होते हैं. लेकिन क्या हम लोग इनका सहीं तरह से इस्तेमाल करते हैं – बिल्कुल नही. हम लोग बस थोड़ी सी सांस लेते हैं और छ्चोड़ देते हैं. बस थोड़ी सी ध्यान देकर देखिए, आपको पता चल जाएगा. इसलिए हम लोगों का फेफड़ा सही से इस्तेमाल नहीं होता हैं. और उसका पूरा ताक़त घाट जाता हैं. हम लोग जितना सही तरह से साँस लेंगे, उतना ही ज़्यादा ऑक्सिजन वाला एर शरीर के अंदर जाएगा, और वैसा कार्बन-दी-ऑक्साइड अंदर से निकल के आएग. ऐसा करने से, हम और ज़्यादा सेहतमंद रह सकेंगे.

स्वस्थ खाना खाए

हर दिन आप कामसकाम 3 बार खाए, और हू भी स्वस्थ खाना. इन मे फल औ सब्ज़ी (विटमिन्स और मिनरल्स के लिए), प्रोटीन वाली आहार (अंडा, मुर्गी के च्चती, दूध और उससे जुड़े हुए खाना) और फिबेर वाला आआहर सामिल करें. हर दिन कामसकाम 3 लिटेर पानी पीए. जंक फुड या बाहरी खाना जितना हो सके कम खाए. और 7-9 घंटा सोने की कॉसिश करें.

वीकेंड और वाकेशन का अच्च्छा इस्तेमाल करें

सप्ताहांत का इस्तेमाल आप आउटडोर ग़मे जैसे क्रिकेट, फुटबॉल, स्विम्मिंग इत्यादि मैं लगाए. अगर समुंदर किनारे घूमने जेया रहे हो, तो तैरने का आनंद ज़रूर उठाए. पाहरी एलके मैं जेया रहे हो तो हाइकिंग का मज़ा ले. जुंगली एरिया मैं तो पैदल चलने मैं ज़रूर मज़ा आएगा (जुंगली जानवर का दर ना हो तो).

१० का फ़ॉर्मूला

जब भी आप घर मे पढ़े पढ़े बोर हो रहे हो, तो 10 पुश उपस और उठक बैठक कर ले. यह कोई ज़्यादा तो नही हैं. लेकिन कुछ ना करने से अच्च्छा हैं के कुछ तो करें. पहले यह आपको कष्ट देगा, लेकिन कुछ दिन बाद ऐसा करना आपको नॉर्मल लगने लगेगा. और फिर आप इनको बढ़ा भी सकते हो, किसने रोका हैं!

खड़े रहने की कॉसिश करें

बैठ ने से खड़े होके रहने मे ज़्यादा कॅलरीस की खपत होती हैं, जो के अच्च्ची बात हैं. काम काज मैं हर घंटे अपने कुर्सी छ्चोड़ कर तोड़ा उठिए, इधर उधर जाइए. बस मैं अगर बैठे हुए हो, तो किसी बुज़ुर्ग को आपनी सीट छ्चोड़ दे और कुछ देर खड़ी रहें. इससे आपको ज़रूर अच्च्छा लगेगा, दूसरे लोग क्या सोनछेंगे उसकी परवाह कौन करता हैं?

व्यायाम जो आप पसंद करें

आख़िर मे हम कहेंगे इसके बरमे. व्यायाम सबसे अच्च्छा मध्यम हैं फिट रहने के लिए. लेकिन ऐसा एक्सरसाइज़ आप चुनिए जो आप पसंद करते हो. मसल बननेका शौख हो तो जिम जाय्न कीजिए. डॅन्स करना पसंद हो तो डॅन्स याज एरोबिक्स क्लास जाय्न कीजिए. तैरना अगर नहीं आता तो, वीकेंड स्विम्मिंग क्लास जाय्न करें. मार्षल आर्ट्स या किक बॉक्सिंग भी एक बहुत ही अच्च्छा उपाय हैं फिट रहने का. इससे आपको आत्मरक्षा के उपाय भी मिल जाएँगे और आत्मवीस्वास भी. ख़ास करके लड़कियों को तो मैं सलाह दूँगा ऐसा क्लास जाय्न करने के लिए.

तो यह सब रहा आपके स्वस्थ बने रहने का छ्होटा-मोटा उपाय. यह सब उपाय आपके ज़िंदगी और शरीर को बेहतर बनाने मैं ज़रूर मदत करेगा. अगर आप जानना चाहते हो के घर मैं रह के कौन कौन सा व्यायाम या योगा करके आप सेहतमंद और पतला हो सकते हो, तो आयेज हुमारा यह ब्लॉग ज़रूर पढ़े.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *